BREAKING NEWS
Search

Category: आँचलिक साहित्य

मातृभाषा – जन्म के बेरा से ही बोलल जाए वाला भाषा , निहोरा बा – भोजपुरी के गँवारू भाषा जनि बनाईं

का हवे मातृभाषा जन्म के समय से हमनी के जवना भाषा के प्रयोग कर रहल...

भोजपुरी के विकास खातिर रउरा सभे आगे आई , भोजपुरी के गँवारू भाषा जनि बनाईं

  (शैलेन्द्र प्रताप शाही, प्रबंध संपादक  ) भोजपुरिया बयार...

नानी की आगे ननीअउरे के बखान

कहावत 1. का राम की घरे रहले आ का राम की बने गइले। अर्थ- अनुपयोगी...

कबो सोना के चिरई कहाएवाला भारत – आज जूझ रहल बा बेरोजगारी के समस्या से

देश में  तेजी से बढ़ रहल  जनसंख्या बा बेरोजगारी के सबसे बड़का...

जनवरी अंक के पत्रिका

Share

हैदराबाद के आदमखोरन के अंत

आयुष शाही बक्सर जेल के चुनिंदा कैदी आज कल मनीला रस्सी तैयार कर...