BREAKING NEWS
Search

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी दिल्ली में फसल बिहारी मजदूर लोग के मदत करे खातिर सरकार से कईली अपील , भगवान के ख़ातिर जे भी हमार बिहारी ………

राबड़ी देवी के सरकार से अपील :- भगवान के ख़ातिर जे भी हमार बिहारी भाई, बहिन, बच्चा और गरीब-गुरबा लोग बाहर फँस गईल बा ऊ लोगन के रहे और खाए के इंतज़ाम करीं. ई गरीब-गुरबा के आंसू देख के हमरो आंसू नईखे रुकत.

पटना. कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरा के देखते हुए पूरा  भारत में 22 मार्च के  आधी रात से लॉकडाउन हो गईल बा . रेल सेवा से लेके  एयर सर्विस तक बंद कर दिहल  गईल बा . एकरा साथे  ही जे  जहां बा ओहिजा रहल ओकर मजबूरी बन गईल बा . पंजाब, जम्मू, दिल्ली, राजस्थान अउरी  तमिलनाडु समेत कईगो  प्रदेश में बिहार के प्रवासी मजदूर फंस गईल बाड़े .केतना लोग भूखे पियासे परेशान बा . बिहारी मजदूर लोग के परेशानी देखला के बाद  बिहार के  पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी  केंद्र अउरी  राज्य सरकार से इनकरा लोग के  राहत पहुंचावे खातिर निहोरा कइले बाड़ी . उ अपना  ट्विटर हैंडल से कइल गइल  भोजपुरी में  ट्वीट में राबड़ी देवी  लिखले बाड़ी की ,  हम केन्द्र और राज्य सरकार से निहोरा कर रहल बानि की भगवान के ख़ातिर जे भी हमार बिहारी भाई, बहिन, बच्चा और गरीब-गुरबा लोग बाहर फँस गईल बा ऊ लोगन के रहे और खाए के इंतज़ाम करीं. ई गरीब-गुरबा के आंसू देख के हमरो आंसू नईखे रुकत. रउरा लोग के बता दिहल जाव  कि बिहार सरकार  दिल्ली में फंसल  मजदूरन के  सहायता करे खातिर  फोन नंबर जारी कइले बा . कोरोना वायरस  के संक्रमण के खतरा के  देखला के बाद  देश में भइल  लॉकडाउन के बाद अगर दिल्ली में बिहार के कवनो  मजदूर मदद चाहत बाड़े तब उ लोग  मोबाइल नंबर 981831252 और 9773711261 पर फोन कर मदद मांग सकत बाड़े  ह. बिहार सरकार  के द्वारा सरकार  दिल्ली में मौजूद बिहार सरकार के पदाधिकारी लोग के इ  निर्देश देहले बा  कि ओहिजा  फंसल   बिहार के मजदूर लोग के  तत्काल राहत पहुंचावल जाव . रउरा लोग के बता दिहल जाव  कि देश के  राजधानी में काम करे वाला  तकरीबन 250 से ज्यादा मजदूर लोग श्रम विभाग के  फोन कर मदद के गोहार लगा चुकल बा .

हम केन्द्र और राज्य सरकार से निहोरा कर रहल बानि की भगवान के ख़ातिर जे भी हमार बिहारी भाई, बहिन, बच्चा और गरीब-गुरबा लोग बाहर फँस गईल बा ऊ लोगन के रहे और खाए के इंतज़ाम करीं।

इ गरीब-गुरबा के आँसू देख के हमरो आँसु नईखे रुकत।

1,181

12:54 PM – Mar 26, 2020



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *