BREAKING NEWS
Search

कोरोना के कहर के बीच राजधानी पटना में अब फईल रहल बा बर्ड फ्लू , निपटे खातिर तैयारी शुरू

पटना :- कोरोना संक्रमण के खतरा  के बीच ही राजधानी में बर्ड फ्लू के संक्रमण के भी आशंका बन गईल बा । खासकर शहर के कइगो  इलाका  में मरल  कौवा औरी पंक्षी के  जांच रिपोर्ट में बर्ड फ्लू के  पुष्टि के बाद ऐह  बात के  बल मिलल बा । आधिकारिक सूत्र  के अनुसार पहिले  जंगली पक्षी के  श्रेणी में आवे  वाला  कौवा  में ऐह  बीमारी के  पता चलल । ओकरा  बाद शहर के अशोकनगर अउरी पड़ोसी जिला  नालंदा के कतरी सराय के सैदपुर गांव में एगो  पोल्ट्री फॉर्म में जांच के बाद बर्ड फ्लू के  पता चलल बा । ओकरा बाद से वेटनरी ऑफिसर लोग मान लेहले बा  कि राजधानी में बर्ड फ्लू  दस्तक दे देहले बा । संक्रमित पक्षी के संपर्क में अइला  के बाद इ  रोग मनुष्य  में भी फैल जाला । खास बात इ बा  कि देश में ऐह  वर्ष कहीं भी बर्ड फ्लू के संक्रमण के  बात सामने नइखे आईल । पटना ऐह  मामला  में पहिलका  शहर बा । ऐह  जानकारी के बाद केंद्र सरकार भी सतर्क हो गईल बा । बर्ड फ्लू के  फैलाव दोसरा  शहर चाहे औरी जगह ना होखे एकरा खातिर  या अन्य क्षेत्र में  सघन सैनेटाइजेशन के  काम होइ । ओकरा खातिर  रणनीति बनावल  गईल बा । प्रभावी क्षेत्र के 1 किलोमीटर के दायरा  में सामूहिक कीलिंग के  कार्रवाई भी कइल जाई। क्षेत्र में पोल्ट्री फॉर्म में मौजूद मुर्गियन के  मारल  जाई । अईसन सगरी काम के गाइडलाइन केंद्र सरकार दी । सरकार के  हिदायत के बाद ही दुनु स्थानों पर कार्यवाही कईल जाई । वेटनरी डॉक्टर लोग के  टीम प्रभावित क्षेत्र के सर्विलांस पर रखले बा । दवाई के  छिड़काव भी हो चुकल बा । वेटनरी डॉक्टर लोग के  तीन टीम गुरुवार से तैयार बा । अब बस केंद्र सरकार के आदेश के  इंतजार बा ।मुर्गा –मुर्गियन के  मारला  के मामला  में फैसला व  तरीका केंद्र सरकार के  गाइडलाइन के हिसाब से होइ । विभाग  के ओर से एकर तैयारी अपना स्तर से पूरा कर लिहल गईल बा । रउरा लोग के बता दिहल जाव  कि बर्ड फ्लू भी अत्यंत संक्रामक वायरस जनित रोग हवे ‌। एकर  असर आम लोग व  मुर्गी व्यवसाय पर  ज्यादा पड़ेला । वायरस से बीमार या संक्रमित मुर्गा –मुर्गियन के चूजा मर जाले । जवना से  भारी आर्थिक नुकसान होखेला  ।

कईसे फइलेला  बर्ड फ्लू 
बीमार पक्षी के बीट, म्यूकस औरी कभी-कभी त पंख  के संपर्क में अईला  पर भी संक्रमण फइल जाला । संक्रमित मनुष्य के  तेज बुखार, जुकाम, सांस लेबे  में तकलीफ, नाक बहल  शुरू हो जाला । अगर ऐह  तरह के लक्षण मिल रहल बा तब रउरा लोग  तुरंत डॉक्टर से संपर्क करी लोग । विशेषज्ञ लोग  के मुताबिक 70 डिग्री सेल्सियस तापमान पर एकर  वायरस नष्ट होखेला  । एहिसे  अंडा या चिकन 70 डिग्री सेल्सियस पर पकाके  खाए के चाही । 

पशुपालन विभाग के ओर से जारी भईल  एडवाइजरी  
पशुपालन विभाग के ओर से ऐह  मामला  में एडवाइजरी भी जारी कर दीहल गईल बा । विभाग के अनुसार लोग के बेमार  मुर्गियन  के संपर्क में आवे  से बचे के चाही  । एहिसे जुड़ल काम करेवाला लोग के दस्ताना पहिने के चाही  । पंख आदि छूवला  पर साबुन से हाथ धोवे के चाही । एकरा बादो  यदि बाड़े में रखल मुर्गी सन के  संक्रमित हो जाता तब ओकरा के दफना देबे के चाही ।अईसन  पक्षी के मल मूत्र, पंख ,दूषित पानी से भी अन्य पक्षी  में बेमारी  फईल जाला । विशेषज्ञ लोग के अनुसार बर्ड फ्लू से  वर्तमान माहौल में घबराए के कवनो  बात नईखे काहे से की  अभी सगरी  लोग खुद अपना  घर  में  कैद  बा । आवाजाही बंद बा ।




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *