BREAKING NEWS
Search

दुश्मन के हौशला पस्त करे खातिर भारत के मिलल सबसे बड़का शत्रु संहारक राफेल , विधि पूर्वक पूजा कईला के बाद कुमकुम से लिखाल ओम

नई दिल्ली, भारत के मिलल पहिलका राफेल विजयादशमी के दिने  भारत  दुनिया के सबसे मारक लड़ाकू जेट विमान राफेल के  हासिल कर  लेहले बा। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह  फ्रांस  में एगो समारोह में ऐ  बहुचर्चित अउरी  बहुप्रतीक्षित राफेल विमान के  प्राप्त कईले । ऐ  दौरान दुनिया भर के लागल निगाह  के बीच पूजा के बाद राजनाथ सिंह राफेल में उड़ान भी भरले ।रक्षामंत्री  राफेल विमान के  विधि विधान पूर्वक शस्त्र पूजा  करके  भारतीय वायुसेना के ताकत में हो रहल ऐ बढ़ोतरी के शुरुवात कईले । राफेल में लगभग आधा घंटा के उड़ान भर के  राजनाथ सिंह  भारत के बढ़ रहल  सैन्य पराक्रम के  भी संदेश देहले । राफेल हासिल कईला  के बाद राजनाथ सिंह  कहले  कि भारतीय वायुसेना के  गर्जना ही तेज नईखे  बल्कि एकरा  बेहद मजबूती मिली । रक्षामंत्री  कहले  कि राफेल मिलला  के साथे  ही भारत-फ्रांस के रणनीतिक अउरी  सामरिक रिश्ते के नया  दौर के शुरूआत हो गईल  बा ।फ्रेंच में राफेल के  अर्थ ‘आंधी फ्रांस के मेरीनेक एयरबेस पर राफेल बनावे वाला   कंपनी दॅासौ और फ्रांसीसी सैन्य मंत्री के  मौजूदगी में भईल ऐ  समारोह में राजनाथ सिंह के  राफेल सौंपे के औपचारिकता पूरा  कईल  गईल । ऐह  मौका  पर राजनाथ सिंह  राफेल के  ‘आंधी’ बतावत  कहले  कि इ  अपना  नाम के हिसाब से हमार वायुसेना के  मजबूत करी । फ्रेंच भाषा में राफेल के  अर्थ आंधी होखेला जवना बात के चर्चा राजनाथ सिंह कईले ।

भारतीय वायुसेना खातिर  ऐतिहासिक दिन

राजनाथ  कहले  कि आज भारतीय सुरक्षाबल खातिर  ऐतिहासिक दिन बा । भारत में आज विजयादशमी यानी बुराई पर अच्छाई के  जीत के  दिन बा ।  आज 87वां वायुसेना दिवस भी हवे । रक्षा मंत्री  कहले की  हमार फोकस वायुसेना के  क्षमता बढ़ावे  पर बा । हमरा पूरा  उम्मीद बा  कि सगरी  राफेल विमान के  तय समय सीमा पर डिलिवरी हो जाई ।

विधि विधान से शस्त्र पूजन कर लिखल गईल  ओम

राफेल हासिल कईला  के बाद राजनाथ सिंह पूरा  भारतीय परंपरा अउरी  विधि विधान से शस्त्र पूजा कईले । ऐह  दौरान रक्षा मंत्री विमान के अगला हिस्सा  पर कुमकुम के  तिलक लगाके ओम लिखले । फूल अउरी  नारियल भी रखल  गईल । पूजा विधि के अनुसार विमान के पंख में सिंह रक्षा सूत्र बांधल गईल । राफेल के शस्त्र पूजा के दौरान बुरी नजर से बचावे खातिर राफेल के दुनु पहिया पर दुनु पहिया के नीचे नींबू भी रखल  गईल ।

वायुसेना अध्यक्ष के नाम पर पहिलका  राफेल

राफेल के पहिलका  विमान आरबी 001 के  हासिल कईला  के साथे  ही एकरा के  बेहद मारक लड़ाकू जेट के भारत आईला के उल्टा गिनती भी शुरु हो गईल । भारतीय वायुसेना के पायलट राफेल उड़ावे अउरी एकर तकनीकी जानकारी लेबे खातिर पहिले से ही फ़्रांस पहुँच चुकल बाड़े । राफेल से 1500 घंटा के  उड़ान पूरा  कईला  के बाद ऐ  विमान के  मई 2020 में भारत लेके आवल जाई  । चारगो  राफेल विमान के पहिलका  जत्था भारतीय वायुसेना के अगिला  साल मई में मिली । एगो  रोचक तथ्य ई बा  कि भारतीय वायुसेना के पहिलका राफेल लड़ाकू विमान के पिछलका हिस्सा  यानि टेल पर आरबी 01 लिखल बा  । नवका  वायुसेना अध्यक्ष एयर चीफ मार्शल आरकेस भदौरिया के नाम पर बा ।

अलग-अलग एयरबेस पर होंई  तैनाती

भारत को मिले वाला  36 विमान के डील में से पहिलका  चारगो  अंबाला एयरबेस पर तैनात कईल जाई । पहिलका  16 राफेल के  वायुसेना के  17वी स्क्वाड्रन गोल्डन एरोज में शामिल कईल जाई , साल 1999 के करगिल युद्ध के दौरान हीरो बनके  उभरल ऐ  स्क्वाड्रन के  हाल ही में सेवानिवृत  एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ कमांड कईले रहले । अप्रैल 2022 में आवे वाला अगिला  16 राफेल जेट के  पश्चिम बंगाल के हासिमारा एयरबेस में तैनात कईल जाई ।

गेमचेंजर साबित होई  राफेल

राफेल लड़ाकू विमान भारतीय वायुसेना के  मारक क्षमता कई गुना बढ़ा दी । ई  हवाई क्षेत्र में गेमचेंजर साबित होइ । राफेल पाकिस्तान अउरी  चीन से होखे  वाला  हवाई हमला  के खतरा के रोके खातिर अउरी ओकरा के खातिर भारत खातिर काफी मदतगार साबित होई । सॉफ्टवेयर प्रामाणिकता के  वजह से सगरी  36 जेट्स अक्टूबर 2022 तक ही भारतीय वायुसेना के बेड़ा में शामिल हो पाई ।

Indian Defence minister Rajnath Singh inaugurates the first of 36 Rafale fighter jets destined for India during the delivery ceremony, on October 8, 2019 at Dassault Aviation plant in Merignac. (Photo by GEORGES GOBET / AFP)



Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *