BREAKING NEWS
Search

किसी भी छोटे – मोटे कारणो से बच्चो को स्कूल के कक्षाए न छोड़ने दे अभिभावक


गोपालगंज : केन्द्रीय विद्यालय संगठन के पटना संभाग के उपयुक्त संतोष कुमार एन ने पटना संभाग में पढ़ने वाले केन्द्रीय विद्यालय के छात्रों के अभिभावकों को अपने पत्र के माध्यम से सभी अभिभावकों से अपील की है . श्री संतोष कुमार एन ने अपने संदेश पत्र को केन्द्रीय विद्यालय के प्राचार्यो के माध्यम से केन्द्रीय विद्यालय के सभी अभिभावकों के पास पहुचाकर अभिभावकों को अपने बच्चो के प्रति जागरूक एवं सजग रहने की अपील की है. केन्द्रीय विद्यालय गोपालगंज के प्राचार्य उमेश पांडेय ने उपयुक्त के द्वारा भेजे गए पत्र को विद्यालय के प्रथना सभा में पढकर सुनाया और विद्यालय के सभी बच्चो के अभिभावकों को छात्रों के माध्यम से पत्र की कापी बच्चो को भेजवाया . उपयुक्त ने अपने पत्र के माध्यम से केन्द्रीय विद्यालय के अभिभावकों से अपील कर लिखा है की अभिभावक किसी छोटे – मोटे कारण से अपने बच्चो को विद्यालय की कक्षाए न छोड़ने दे . अपने बच्चो में नियमित रूप से कक्षाओं में उपस्थित रहने की आदत विकसित करे .विद्यालय में एक दिन की अनुपस्थिति पढाई पर बुरा प्रभाव डालती है . ऐसी अनुपस्थिति सिखने में अन्तराल पैदा करती है . अभिभावक अपने बच्चों को विद्यालय जाने से पहले उनके किताबो और नोटबुक को करने में मदत करे ताकि यह सुनिश्चित हो जाए की बच्चे विद्यालय में आवश्यक पुस्तके और नोटबुक लेकर जाते ही की नही . बच्चों को मोबाइल , टीबी , कम्पुटर , आउटडोर खेल पर बिताए जाने वाले समय को सिमित करे . प्रत्येक अभिभावक यह प्रयास करे की आपका बच्चा दो से चार घंटे का समय विद्यालय में पढ़े गए पाठो को दोहराने में बिताए . यह शैक्षिणक प्रदर्शन शिक्षको , विद्यार्थियों और अभिभावकों के सयुक्त प्रयास का नतीजा है. अतः आपके शैक्षणिक ज्ञान का स्तर चाहे जो भी हो , शिक्षको की ही तरह , घर में अपने बच्चों की पढाई की निगरानी करने में आपकी अहम भूमिका है .केवल अच्छे अंक प्राप्त प्राप्त करना ही किसी बच्चे के शैक्षणिक विकास का परिचायक नही है . हमारा कर्तव्य है की हम बच्चों को विद्यालय में आयोजित होने वाली विभिन्न गतिबिधियो में भाग लेने के लिए प्रेरित करे ताकि उनकी अंतनिर्हित विभिन्न क्षमताओ का विकास हो सके . कृप्या अच्छी पुस्तके एवं अख़बार पढ़ने के लिए प्रोत्साहित करे . सभी अभिभावक हमेशा अपने बच्चों की बातो को ध्यान से सुने अपना निजी समय देते हुए उन्हें प्यार और देखभाल दे कभी – कभी विद्यालय जाए . अभिभावक शिक्षक बैठक में अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करे . अभी अभिभावक बच्चों के साथ मिलकर शिक्षको के सहयोग से बच्चो के भविष्य के लिया कार्य करे .




Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *